14 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस?

14 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस?
14 सितंबर ही वह दिन है जब पूरे देश में हिंदी दिवस मनाया जाता है. हिंदी दिवस, हिंदी भाषियों के लिए किसी उत्सव से कम नहीं होता है. वहीं विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी को मनाया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारत में हिंदी दिवस 14 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता है...?

दरअसल, संविधान सभा ने 14 सितंबर 1949 को हिंदी को देश की राजभाषा माना था. हिंदी के ऐतिहासिक महत्व को ध्यान में रखते हुए देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया था. तभी से देश में हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा.

14 सितंबर 1953 को पहली बार हिंदी दिवस मनाया गया था. इस दिन कई जगहों पर हिंदी भाषा की प्रगति के लिए और बच्चों में भाषा के प्रति रुचि विकसित करने के लिए तरह-तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है. हिंदी भाषा के कई कवियों ने भी कविताएं लिखकर हिंदी के प्रति अपने प्रेम को प्रदर्शित किया है. हिंदी दिवस देश में ही नहीं पूरी दुनिया में मनाया जाता है. 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है.

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)