रविशंकर प्रसाद बोले- एक दिन में फिल्में 120 करोड़ रु. कमा रही हैं तो कैसी मंदी

रविशंकर प्रसाद बोले- एक दिन में फिल्में 120 करोड़ रु. कमा रही हैं तो कैसी मंदी
मुंबई:  केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने देश की अर्थव्यवस्था (Economy) के मंदी का शिकार होने के सवाल पर अजीबोगरीब तंज कसा. उन्होंने एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि जब देश में एक दिन में ही तीन फिल्में मिलकर 120 करोड़ रुपए कमा रही हों तो आप कैसे कह सकते हैं कि मंदी है. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद मुंबई में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे, इसमें उनके साथ बीजेपी की नेता शाइन एनसी भी मौजूद थीं.

प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा, मैं अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में सूचना प्रसारण मंत्री था. इसलिए मुझे भी कुछ कुछ जानकारी है. अभी एक ट्रेड एनालिस्ट ने जानकारी दी कि 2 अक्टूबर को नेशनल हॉलीडे होने के कारण 3 फिल्मों ने एक ही दिन में 120 करोड़ रुपए की कमाई की, जब देश में अर्थव्यवस्था अच्छी है तभी तो ये कमाई हो रही है. ऐसे में मंदी कहा है.



रोजगार के सवाल पर भड़के मंत्री जी
केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में रोजगार (Employment) के मुद्दे पर किए सवाल पर भड़क गए. दरअसल उनसे हाल में आई रोजगार पर आई एनएसएसओ (NSSO) की रिपोर्ट पर उनसे सवाल किया गया था. केंद्रीय मंत्री ने कहा, ये रिपोर्ट गलत है. कुछ लोगों के लिए फैशन बन यगा है कि वह आम जन को गुमराह करें. उन्होंने कहा, सरकार ने कई सेक्टर में जॉब्स दिए हैं, जिन्हें इस रिपोर्ट में शामिल नहीं किया गया है.

#WATCH Union Minister Ravi Shankar Prasad in Mumbai: That report (NSSO report on unemployment) is false. I gave you 10 relevant data, not one is present in the report. We never said we will give government jobs to everyone. Few people tried to mislead in a planned fashion. pic.twitter.com/FTGXuhzN19



मुंबई में प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से रोजगार के मुद्दे पर आई एनएसएसओ की रिपोर्ट सवाल किया गया. इसके बाद वह खफा हो गए और उन्होंने कहा, 'ये रिपोर्ट गलत है. मैं आपको 10 डाटा दे सकता हूं जो इस रिपोर्ट में शामिल नहीं हैं. ये डाटा क्यों नहीं हैं इस रिपोर्ट में. इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग में, आईटी क्षेत्र में, मुद्रा लोन में, कॉमन सर्विस सेंटर में. हमने आपसे कभी नहीं कहा था कि सरकार सभी को सरकारी नौकरी ही देगी. उनकी रिपोर्ट भी नहीं कहती. इसलिए कुछ लोगों ने उसे योजनाबद्ध तरीके से गुमराह करने की कोशिश की है.'

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)