समस्तीपुर में शुरू हुआ विद्यापति राजकीय महोत्सव

समस्तीपुर में शुरू हुआ विद्यापति राजकीय महोत्सव
समस्तीपुर. जिले के विद्यापति नगर प्रखंड के विद्यापति धाम परिसर में रविवार को सातवां विद्यापति राजकीय महोत्सव (Vidyapati State Festival) शुरू हुआ. 10 नवंबर से 12 नवंबर तक चलने वाले इस महोत्सव का उद्घाटन बिहार विधानसभा (Bihar Assembly) के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी (Speaker Vijay Kumar Chaudhary) और संस्कृति विभाग के मंत्री प्रमोद कुमार ने किया. इस मौके पर नेताओं ने विद्यापति के जीवन पर आधारित पुस्तक का भी विमोचन किया. कार्यक्रम में दोनों प्रमुख नेताओं के अलावा राज्यसभा सांसद रामनाथ ठाकुर भी मौजूद थे.

विद्यापति के जीवन दर्शन से लें सीख
विद्यापति राजकीय महोत्सव में आए लोगों को संबोधित करते हुए विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने विद्यापति के जीवन-दर्शन से सीख लेने की नसीहत दी. उन्होंने कहा कि महाकवि का जीवन-दर्शन हमें काफी कुछ सिखाता है. इस दर्शन को हम लोगों को अपने जीवन में आत्मसात करना चाहिए. विद्यापति की रचनाओं का जिक्र करते हुए विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि मैथिल कोकिल विद्यापति की रचना सभी क्षेत्र में प्रासंगिक और प्रशंसनीय है. विजय कुमार चौधरी ने इस मौके पर विद्यापति की रचनाओं को उद्धृत करते हुए लोगों को उनके व्यक्तित्व और कृतित्व के बारे में बताया.

7th Vidyapati State Festival begins at Samastipur in Bihar
विद्यापति महोत्सव के दौरान पुस्तक का भी विमोचन किया गया.
2013 से हो रहा राजकीय समारोह
विद्यापति नगर प्रखंड में लंबे समय से महाकवि के नाम पर महोत्सव का आयोजन किया जाता रहा है. वर्ष 2013 में राज्य सरकार ने यहां होने वाले समारोह को राजकीय महोत्सव का दर्जा दिया. इसके बाद से लगातार यह कार्यक्रम पूरे उत्साह के साथ हर साल मनाया जा रहा है. पौराणिक कथाओं के अनुसार महाकवि विद्यापति की भक्ति से प्रसन्न होकर भगवान शिव उनके यहां 'उगना' नाम से सेवक बनकर आए थे. कालांतर में जब एक दिन उगना अचानक गायब हो गए, तो विद्यापति उनकी तलाश में विद्यापति धाम तक आ पहुंचे. कहा जाता है कि मां गंगा ने भी महाकवि की भक्ति से प्रभावित होकर उन्हें दर्शन दिया था. महाकवि ने गंगा के दर्शन के बाद अपने शरीर का त्याग कर दिया, तभी से समस्तीपुर के विद्यापति धाम की ख्याति है. इसी उपलक्ष्य में यहां हर साल महोत्सव का आयोजन किया जाता है.

ये भी पढ़ें -
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 10 करोड़ रुपए देगा पटना का हनुमान मंदिर

Ayodhya Verdict: 29 साल पहले इस परिवार ने अयोध्या में गंवाया था इकलौता चिराग

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)