प्रियंका गांधी यूपी Congress की नई टीम को सिखाएंगी सियासत के गुर, रायबरेली में आयोजित होगी वर्कशॉप

प्रियंका गांधी यूपी Congress की नई टीम को सिखाएंगी सियासत के गुर, रायबरेली में आयोजित होगी वर्कशॉप
लखनऊ:

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) यूपी कांग्रेस की अपनी नई टीम के साथ रायबरेली में 14 से 16 अक्टूबर तक तीन दिन वर्कशॉप आयोजित करेंगी. हाल ही में उन्होंने यूपी कांग्रेस की एक नई टीम बनाई है, जिसमें अजय कुमार लल्लू (Ajay Kumar Lallu) को प्रदेश अध्यक्ष और आराधना मिश्रा को कांग्रेस विधायक दल का नेता बनाया गया है. प्रियंका गांधी 67 सदस्यों वाली इस टीम को नए माहौल में सियासत के गुर सिखाएंगी. अगर सेहत ठीक रही तो कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी भी वर्कशॉप के दूसरे दिन टीम प्रियंका से मुलाक़ात करेंगी.  प्रियंका की वर्कशॉप के लिए प्रोफेशनल तरीके से प्लानिंग की जा रही है. इसमें कांग्रेस ट्रेनिंग सेल और कांग्रेस मीडिया सेल के लोग भी शामिल होंगे. 

प्रियंका गांधी की यूपी में नई टीम के साथ लखनऊ में नया बंगला भी, कांग्रेस में जान फूंकने की कोशिश


प्रियंका गांधी चाहती हैं कि पूरे यूपी में बूथ स्तर तक उनका संगठन हो और संगठन के लोग आम आदमी से जुड़े मसलों पर सड़क पर लड़ते नज़र आएं. वर्कशॉप से जुड़े एक कांग्रेस नेता ने NDTV से कहा कि "प्रियंका जी को लगता है कि भले मोदी की लोकप्रियता चाहे जितनी हो, लेकिन आर्थिक मंदी ने हर वर्ग की कमर तोड़ दी है. मिडिल क्लास मंहगाई, बेरोज़गारी और क़ानून व्यवस्था की खराब हालत से बहुत परेशान हैं. इन मुद्दों पर आम आदमी के लिए अगर सड़क पर लड़ेंगे तो वे पार्टी से जुड़ेंगे और हम कुछ बदलाव लाने में मददगार साबित होगे."इसी नज़रिये से प्रियंका ने इस बार यूपी कांग्रेस की जो नई समिति बनाई है उसमें सदस्यों की औसत उम्र 40 साल है और प्रदेश अध्यक्ष और विधायक दल की नेता दोनों युवा हैं. समझा जाता है कि अजय कुमार लल्लू और आराधना मिश्रा दोनों को स्ट्रीट फाइटर की छवि होने के कारण ही ये पद दिए गए हैं. वर्कशॉप में सड़क की लड़ाई को सोशल मीडिया के ज़रिये हर शख़्स तक कैसे पहुंचाया जाए इसकी भी ट्रेनिंग दी जाएगी.  

उत्तर प्रदेश कांग्रेस के नए अध्यक्ष कल ग्रहण करेंगे कार्यभार, बस से पहुंचेंगे लखनऊ

प्रियंका की नई टीम को लेकर पार्टी के काफी लोगों में असंतोष भी है. खासकर तमाम वरिष्ठ लोगों को टीम से बाहर कर दिए जाने पर भी लोगों में नाराजगी है. पार्टी के पूर्व एमएलसी और अल्पसंख्यक सेल के पूर्व अध्यक्ष सिराज मेहदी ने नई टीम के गठन से नाराज़ होकर पीसीसी और एआईसीसी दोनों से इस्तीफ़ा दे दिया है. उनका कहना है की इतनी बड़ी समिति में किसी भी शिया नेता को जगह नहीं दी गई, जबकि बीजेपी ने शिया मुसलमानों को लुभाने के लिए मुख़्तार अब्बास नक़वी को केंद्रीय मंत्री, गैरुल हसन रिज़वी को अल्पसंख्यक आयोग का राष्ट्रीय अध्यक्ष, मोहसिन रजा को प्रदेश में मंत्री और बुक्कल नवाब को एमएलसी बना दिया है. इसी तरह सलाहकार बनाये गए वरिष्ठ नेता राजेश मिश्रा ने पद लेने से इंकार कर दिया है. समझा जाता है कि प्रियंका इस वर्कशॉप में नई टीम को लेकर उठे विवादों को ख़त्म करने के लिए भी कुछ क़दम उठाएंगी.  

टिप्पणियां

VIDEO : सोनभद्र नरसंहार पीड़ितों से मिलीं प्रियंका


(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from Ndtv India.)