लड़कियों के अधिकारों पर प्‍लान इंडिया गर्ल चेंजमेकर्स का अभियान

लड़कियों के अधिकारों पर प्‍लान इंडिया गर्ल चेंजमेकर्स का अभियान
इंटरनेशनल डे ऑफ द गर्ल चाइल्‍ड- आईडीजी (अंतरराष्‍ट्रीय कन्‍या दिवस) के उपलक्ष्‍य में, देश के 10 राज्‍यों से प्‍लान इंडिया के गर्ल चेंजमेकर्स राजदूतों की भूमिका में तथा 22 राजनयिक मिशनों के उच्‍चायुक्‍त एकजुट हुए. इंटरनेशनल डे ऑफ द गर्ल चाइल्‍ड राजनयिक मिशन वास्‍तव में, प्‍लान इंडिया और भारत में यूरोपीय संघ के प्रतिनिधिमंडल की भागीदारी वाला अनेक पक्षीय अभियान है. इस अभियान को ऑस्‍ट्रेलिया, बेल्जिया, स्‍लोवाकिया, कनाडा, चेक गणराज्‍य, डेनमार्क, नॉर्वे, एस्‍टोनिया, फिनलैंड, न्‍यूज़ीलैंड, जर्मनी, इस्राइल, पोलैंड, स्‍लोवेनिया, मेक्सिको, लिथुआनिया, लातवयिा, इक्‍वाडोर, स्‍वीडन, बुल्‍गारिया, अर्जेंटीना तथा स्विट्ज़रलैंड के राजनयिक मिशनों की भागीदारी का लाभ और समर्थन हासिल है.

लड़कियों के लिए अधिक अवसर

यह तीसरा साल है जबकि प्‍लान इंडिया तथा राजनयिक मिशनों ने इंटरनेशनल डे ऑफ द गर्ल चाइल्‍ड के लिए भागीदारी की है. संयुक्‍त राष्‍ट्र ने लड़कियों के लिए अधिक अवसरों को उपलब्‍ध कराने तथा दुनियाभर में उनके साथ होने वाले भेदभाव के बारे में जागरूकता लाने के लिए यह दिवस घोषित किया है. इस अभियान के जरिए वरिष्‍ठ पदों से लड़कियों और युवतियों के लिए समान अवसर उपलब्‍ध कराने की आवश्‍यकता को और अधिक मजबूती से रेखांकित करने में मदद मिलती है. साथ ही, उन्‍हें फैसले लेने की अपनी क्षमता को प्रदर्शित करने तथा यह सुनिश्चित करने कि वे भी खुशहाल, स्‍वस्‍थ और सुरक्षित माहौल में सीख सकती है, नेतृत्‍व प्रदान कर सकती हैं और निर्णय करने के साथ-साथ आगे भी बढ़ सकती हैं, के लिए प्रोत्‍साहित किया जाता है.

साहस की कथाओं को सामने लानागर्ल चेंजमेकर्स प्‍लान के समर्थन वाले समुदायों से हैं और 10 भारतीय राज्‍यों का प्रतिनिधित्‍व करती हैं जिनमें उत्‍तर प्रदेश, बिहार, उत्‍तराखंड, दिल्‍ली, ओडिशा, महाराष्‍ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, राजस्‍थान और झारखंड शामिल हैं. उनका चयन उनकी नेतृत्‍व क्षमताओं तथा अपने समुदायों के भीतर लड़कियों के अधिकारों को हासिल करने की दिशा में वचनबद्धता दिखाने, अपने साहस की कथाओं को सामने लाने और लड़कियों के अधिकारों एवं नेतृत्‍व के व्‍यापक आंदोलन के प्रति प्रतिबद्धता जाहिर करने के लिए किया गया. इस अवसर पर, लड़कियों को अपना अनूठा परिप्रेक्ष्‍य राष्‍ट्रीय स्‍तर पर साझा करने, राजदूतावासों और उच्‍चायुक्‍तों के दैनिक कामकाज में भागदारी करने का मौका मिला. यह टेकओवर, कॉर्पोरेट जगत, सरकारी दफ्तरों, मीडिया तथा स्‍थानीय शासन निकायों को भी दिया गया. प्‍लान इंडिया के समर्थन वाले समुदायों से गर्ल चेंजमेकर्स ने देशभर की 270 ग्राम पंचायतों को अपने हाथों में लिया.

सक्रियता और नेतृत्‍व को प्रोत्‍साहन

इस पहल ने लड़कियों और महिलाओं को समान अधिकार, स्‍वतंत्रता तथा प्रतिनिधित्‍व देने की जरूरत की ओर ध्‍यान खींचा है. इन टेकओवर्स के जरिए, गर्ल चेंजमेकर्स ने इस बात पर जोर दिया कि उनके अधिकारों को भी सुना और देखा जाए. हर साल, 11 अक्‍टूबर को, प्‍लान के समर्थन वाले समुदायों से लड़कियां अधिकारसंपन्‍न और महत्‍वपूर्ण पदों को अपने हाथों में लेती हैं और लड़कियों की आवाज़, ताकत और नेतृत्‍व को सुने जाने के लिए अपनी पुरज़ोर आवाज़ उठाती हैं ताकि ‘गर्ल्‍स गेट इक्‍वल’ कैम्‍पेन के तहत् लड़कियों की शक्ति, सक्रियता और नेतृत्‍व को प्रोत्‍साहन दिया जा सके. आज इसी टेकओवर के क्रम में, प्‍लान इंडिया और राजनयिक मिशनों ने एक डिजिटल संकल्‍प भी शुरू किया है. इस संकल्‍प के अंतर्गत, दर्शकों से इस दिशा में अपना समर्थन जाहिर करने का आह्वान किया गया ताकि #GirlsGetEqual का संदेश साकार हो सके.
सपनों को हासिल करना

भारत में यूरोपीय संघ के राजदूत श्री उगो अस्‍तुतो ने सभी 22 राजनयिक मिशनों की ओर से कहा कि लैंगिक समानता अधिक समान और सर्वसमाहित समाज के निर्माण की दिशा में न्‍याय और निवेश का मामला है. यूरोपीय संघ लैंगिक समानता और महिला सशक्तिकरण के मोर्चे पर सतत् विकास लक्ष्‍य का जबर्दस्‍त समर्थक है. हम लड़कियों और महिलाओं के लिए बराबर अवसरों को सुनिश्चित करने के मकस से दुनियाभर में भारत समेत अन्‍य भागीदारों के साथ मिलकर काम करते हैं. हमें आशा है कि यह टेकओवर रटे-रटाए ढर्रों को तोड़कर लड़कियों को अपने सपनों को हासिल करने और नेतृत्‍व प्रदान करने के साथ-साथ अपनी पूर्ण क्षमता को हासिल करने में मदद देगा.

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)