केरल में ओणम के जश्‍न में 487 करोड़ रुपये की शराब पी गए लोग

केरल में ओणम के जश्‍न में 487 करोड़ रुपये की शराब पी गए लोग
तिरुअनंतपुरम. केरल (Kerala) में ओणम (Onam) के दौरान लोगों ने अलग ही तरह का रिकॉर्ड बना डाला. इस साल ओणम के दौरान राज्‍य में रिकॉर्ड 487 करोड़ रुपये की शराब बिक्री (Liquor Sales) हुई, जबकि पिछले साल इसी दौरान यह आंकड़ा 457 करोड़ रुपये रहा था. आंकड़ों के मुताबिक, पिछले साल के मुकाबले इस साल त्‍योहार के आठ दिन के जश्‍न में लोग 30 करोड़ ज्‍यादा की शराब पी गए. बता दें कि राज्‍य में इस बार 3 सितंबर से शुरू हुआ ओणम 10 सितंबर तक मनाया गया.

जुलाई के मुकाबले अगस्‍त में 71 करोड़ रुपये ज्‍यादा की बिकी शराब
केरल में हाल में आई भीषण बाढ़ (Flood) के बाद भी अगस्‍त का महीना शराब बिक्री के लिहाजा से बहुत शानदार रहा. आंकड़ों के मुताबिक, राज्‍य में जुलाई के मुकाबले अगस्‍त में शराब की कुल बिक्री में 71 करोड़ रुपये की बढ़ोत्‍तरी दर्ज की गई. बेवरेजेस को-ऑपरेशन (BEVCO) की दुकानों पर अगस्‍त में कुल 1229 करोड़ रुपये की शराब बिकी. इसके आउटलेट्स पर ओणम के दौरान 90.32 करोड़ रुपये की शराब बिकी. पिछले साल यह आंकड़ा 88.08 करोड़ रुपये रहा था.

सितंबर में तीन बंद पूरे राज्‍य में बंद रहे शराब के सभी आउटलेट्सबेवको की बिक्री में पिछले साल के मुकाबले इस साल मामूली गिरावट दर्ज की गई है. बेवको के त्रिशुर में एक आउटलेट में सबसे ज्‍यादा बिक्री हुई. इस साल इस आउटलेट पर 1.04 करोड़ रुपये की शराब बिकी, जबकि पिछले साल यहां 1.22 करोड़ रुपये की शराब बिक्री हुई थी. अलपुझा काचेरिपदी जंक्‍शन की शराब की दुकानें बिक्री के मामले में दूसरे और पावर हाउस रोड के आउटलेट तीसरे स्‍थान पर रहे. बता दें कि राज्‍रू में 1, 11 और 13 सितंबर को शराब की सभी दुकानें बंद रही थीं.

2018 की भीषण बाढ़ के बाद राज्‍य सरकार ने बढ़ाया था टैक्‍स
केरल सरकार (Keral Government) ने 2018 में आई सदी की सबसे भीषण बाढ़ के बाद शराब की कीमतों में बढ़ोत्‍तरी कर दी थी. साथ ही शराब पर टैक्‍स (Tax) में भी वृद्धि की थी. इसी वजह से राज्‍य में शराब बिक्री से जुटने वाले राजस्‍व में तीन फीसदी बढ़ोत्‍तरी दर्ज की गई है. बेवको ने अब तक की सबसे ज्‍यादा शराब बिक्री अगस्‍त 2018 में दर्ज की थी. बता दें कि पिछले साल अगस्‍त में ही केरल में भीषण बाढ़ आई थी. इस दौरान बेवको ने 1,264 करोड़ रुपये की बिक्री दर्ज की थी.
ये भी पढ़ें:

JUH (A) के मौलाना अरशद मदनी के बाद JUH के महमूद मदनी भी संघ से बातचीत को तैयार

2016 के जेएनयू देशद्रोह मामले ने DUSU चुनाव के मुद्दाें पर भी डाला असर

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)