सरकार के आदेश का है इंतजार, अपने POK को हासिल करने के लिए तैयार है सेना: सेना प्रमुख

सरकार के आदेश का है इंतजार, अपने POK को हासिल करने के लिए तैयार है सेना: सेना प्रमुख

नई दिल्ली: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत (Bipin rawat) ने गुरुवार को कहा कि अगर सरकार चाहती है तो सेना पाकिस्तान (Pakistan) के चंगुल से पाकिस्तान (Pakistan) के कब्जे वाले कश्मीर (पीओक) को फिर से हासिल करने के लिए ऑपरेशन को तैयार है. रावत केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह (Jitendra Singh) के बयान पर मीडिया के एक सवाल का जवाब दे रहे थे. जितेंद्र सिंह (Jitendra Singh) ने अपने बयान में कहा था कि सरकार का अगला एजेंडा पीओके को फिर से प्राप्त करना है और इसे भारत का हिस्सा बनाना है.

रावत ने मीडिया से कहा, "केंद्र सरकार सभी कार्रवाई का निर्णय लेती है. सरकार के तहत काम कर रही एजेंसियों को उनके निर्देश के अनुसार कार्य करना होता है..सेना किसी भी तरह की कार्रवाई के लिए हमेशा तैयार है." सिंह पीएमओ में राज्यमंत्री हैं और 'डोनर' मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार संभालते हैं. उन्होंने मोदी सरकार के 100 दिन पूरे होने पर उनकी उपलब्धियों के बारे में बात करते हुए पीओके पर बयान दिया था.

सिंह ने जम्मू में कहा, "अब अगला एजेंडा पीओके को फिर से हासिल करना है और इसे भारत का हिस्सा बनाना है. यह सिर्फ मेरा या मेरी पार्टी की प्रतिबद्धता नहीं, बल्कि यह 1994 में पी.वी. नरसिम्हा राव की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार के दौरान संसद द्वारा सर्वसम्मति से पारित एक प्रस्ताव का हिस्सा है."

लाइव टीवी देखें-:

रक्षामंत्री ने सबसे पहले कहा था, 'अब POK पर होगी बात'
यहां आपको बता दें कि 18 अगस्त को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने सबसे पहले पाकिस्तान (Pakistan) के कब्जे वाले कश्मीर (POK) को लेकर बयान दिया था. राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा था कि अगर भारत की पाकिस्तान (Pakistan) से बात होती है तो वह केवल अब 'पाकिस्तान (Pakistan) अधिकृत कश्मीर (पीओके)' पर ही होगी. राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने यह बात हरियाणा के पंचकुला में एक चुनावी रैली की शुरुआत करते हुए कही थी. 

राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने रैली में कहा है उसे उन्होंने ट्वीट भी किया है. उन्होंने ट्वीट मे लिखा है कि कुछ लोग मानते हैं कि पाकिस्तान (Pakistan) से बात होनी चाहिए मगर जब तक पाकिस्तान (Pakistan) आतंकवाद को समर्थन देना बंद नहीं करता तब तक कोई बात नहीं होगी.

यहां आपको बता दें कि पिछले कुछ समय से पीओके में कई ऐसे धरना-प्रदर्शन हुए हैं जिसमें वहां के लोग पाकिस्तान (Pakistan) को वहां से भगाने की मांग कर चुके हैं. इन आंदोलनों को देखते हुए पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी पीओके का दौरा किया है, हालांकि वे भी स्थानीय लोगों की आवाज को दबा नहीं पा रहे हैं.

इनपुट: IANS


(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from Zee News.)