साइकिल से हो रही थी सोने की तस्करी, जब राज़ खुला तो कस्टम अफसर भी रह गए दंग

साइकिल से हो रही थी सोने की तस्करी, जब राज़ खुला तो कस्टम अफसर भी रह गए दंग
नई दिल्ली. कहा जाता है कि सोना तस्करी के तरीके (Gold smuggling tricks) बनाने में कभी अंडरवर्ल्ड डॉन (Underworld Don) रहे हाजी मस्तान (Haji Mastan) और करीम लाला का कोई तोड़ नहीं था. शायद इसीलिए उन पर दर्जनों हिन्दी फिल्में (Hindi Movie) भी बनी हैं. लेकिन अगर कस्टम डिपार्टमेंट (Custom Department) के अफसरों की मानें तो आज के सोना तस्कर हाजी मस्तान और करीम लाला को भी पीछे छोड़ रहे हैं. साइिकल और फूड प्रोसेसर  से सोना तस्करी के एक मामले ने तो पूरे विभाग को ही सोचने पर मजबूर कर दिया था.

साइिकल से ऐसे लाया गया था सोना

एक यात्री विदेश यात्रा कर इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरा. वो अपने बच्चे के लिए विदेश से एक टोबो साइकिल भी लेकर आया था. जबकि कस्टम अधिकारियों के पास सूचना थी कि इस फ्लाइट से सोना आ रहा है.

हर यात्री की अच्छी तरह से तलाशी ली गई, लेकिन आखिर में शक साइकिल वाले यात्री पर ही हो रहा था. जब यात्री के साथ साइकिल की भी और सघन तलाशी ली गई तो सोना मिल गया. असल में साइकिल के छोटे-छोटे पॉर्टस को सोने का बनाकर उसमे लगाया गया था. यहां तक की उसकी सीट के नीचे स्प्रिंग भी सोने की लगी हुईं थी.
ये हैं साइकिल के वो पॉर्टस जिन्हें सोने का बनाकर साइिकल में लगाया गया था.


फूड प्रोसेसर की पैकिंग में ऐसे लगाया गया था सोना

ऐसे ही एक बार पहले से अलर्ट कस्टम अधिकारियों के पास सूचना आई कि खाड़ी देश से आने वाली एक फ्लाइट में सोना आ रहा है. हर यात्री की खूब जमकर तलाशी ली गई. वैसे सूचना फूड प्रोसेसर लेकर आने वाले एक खास यात्री के बारे में मिली थी. लेकिन कई बार की तलाशी में उस यात्री के पास भी कुछ नहीं मिला. जानकार बताते हैं कि तभी एक अधिकारी के मुंह से निकला कि इसके पास ढाई किलो सोना तो छोड़ो सोने की एक पिन तक नहीं है.
ये हैं साइकिल के वो पॉर्टस जिन्हें सोने का बनाकर साइिकल में लगाया गया था.


इतना बोलते ही उस अधिकारी को अचानक कुछ याद आया. उसने प्रोसेसर की पैकिंग को जांचना शुरु किया. एक-एक कर सभी स्टेपल की गई पिन निकालकर जांच की गई तो वो सोने की निकलीं.

ये भी पढ़ें-

सीएम योगी ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कहा- देश में संकट आएगा तो राहुल गांधी खड़े नहीं होंगे

अयोध्या विवाद पर मौलाना रशीद फिरंगी का बयान- कभी दूसरा पक्ष जमीन देने की बात क्यों नहीं कहता

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)