सरकार दे रही है घर बैठे सस्ता सोना खरीदने का मौका, बचे हैं सिर्फ 2 दिन

सरकार दे रही है घर बैठे सस्ता सोना खरीदने का मौका, बचे हैं सिर्फ 2 दिन
नई दिल्ली. सोने की ऊंची कीमतों (Gold Prices) के बीच मोदी सरकार (Modi Government) सस्ते सोने की नई स्कीम लाई है. सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड 2019-20 (Sovereign Gold Bond Scheme) के सातवीं सीरीज पेश की है. यह स्कीम 2 दिसंबर को पेश हुई थी और इसमें 6 दिसंबर तक निवेश किया जा सकता है. इस बार सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड का इश्यू प्राइस 3,795 रुपये प्रति ग्राम निर्धारित किया गया है. इसमें निवेश करने पर आपको ब्याज भी मिलेगा. इसके अलावा ऑनलाइन खरीदने पर सरकार 50 रुपये की छूट भी मिल रही है. आपके पास सस्ते में सोना खरीदने के लिए 2 दिन का समय है.

क्या है Sovereign Gold Bond स्कीम?
इस योजना की शुरुआत नवंबर 2015 में हुई थी. इसका मकसद फिजिकल गोल्ड की मांग में कमी लाना तथा सोने की खरीद में उपयोग होने वाली घरेलू बचत का इस्तेमाल वित्तीय बचत में करना है. घर में सोना खरीद कर रखने की बजाय अगर आप सॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍ड में निवेश करते हैं, तो आप टैक्‍स भी बचा सकते हैं. ये भी पढ़ें: बदल गए सोने के गहनों से जुड़े नियम! नहीं मानने पर लगेगा 1 लाख का जुर्माना

कहां से खरीदें सस्ता सोना?
Sovereign Gold Bond की बिक्री बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड, चुने गए पोस्ट ऑफिस और एनएसई एवं बीएसई के जरिए होती है. आप इन सभी में किसी भी एक जगह जाकर बॉन्ड स्कीम में शामिल हो सकते हैं. आपको बता दें कि भारत बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन लिमिटेड की ओर से पिछले 3 दिन 999 प्योरिटी वाले सोने की दी गई कीमतों के आधार पर इस बांड की कीमत रुपये में तय होती है.

मिलेगी 50 रुपये की एक्सट्रा छूट
भारत सरकार ने आरबीआई की सलाह से ऑनलाइन आवेदन और भुगतान करने पर बॉन्ड की कीमत में 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट दी है. मतलब साफ है कि इन गोल्ड बॉन्डस की कीमत 3,795 रुपये प्रति ग्राम तय है. अगर आपने ऑनलाइन बुक किया तो आपको 50 रुपये की छूट मिलेगी. यानी फिर कीमत हो जाएगी प्रति ग्राम 3,745 रुपये. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में आवेदन का सेटलमेंट 10 दिसंबर 2019 को होगा, यानी निवेशकों को इस तारीख को बॉन्ड अलॉट किया जाएगा. ये भी पढ़ें: आपने भी खरीदा है सोना तो जरूर जान लें ये बात, होगा बड़ा फायदा



कितना खरीद सकते हैं सोना
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीस के निवेश करने वाला व्यक्ति एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 500 ग्राम सोने के बॉन्ड खरीद सकता है. वहीं न्यूनतम निवेश एक ग्राम का होना जरूरी है. इस स्कीम में निवेश करने पर आप टैक्स बचा सकते हैं.

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड पर मिलता है ब्याज
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करने वालों को सरकार एक निश्चित ब्याज हर साल देती है. वहीं अगर गोल्ड का रेट बढ़ता है तो निवेशका को इसका फायदा भी मिलता है. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड पर सालाना 2.5 फीसदी ब्याज दिया जा रहा है. इस ब्याज का भुगतान हर 6 महीने में किया जाता है. ये भी पढ़ें: खुशखबरी! इस राज्य में शादी पर दुल्हन को 10 ग्राम सोना देगी सरकार



सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड से पैसा निकलने पर टैक्स
अगर आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को मैच्योरिटी तक होल्ड करते हैं तो इसपर आपको कोई कैपिटल गेंस टैक्स नहीं देना होगा. हालांकि, मैच्योरिटी की तारीख से पहले अगर आप एक्सचेंज के जरिए इसे बेचते हैं तो आपको इसपर टैक्स देना होगा. अगर आप सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को खरीदने के 3 साल के अंदर बेचते हैं तो इसे शॉर्ट टर्म गेन माना जाता है. इस तरह की गेन को निवेशक की इनकम के तौर पर माना जाता है.

ये भी पढ़ें: सोने के गहने खरीदने का है प्लान तो ठहरिए! 1 जनवरी से बदल जाएगा ये बड़ा नियम

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)