प्रवर्तन निदेशालय ने ओडिशा में भूषण स्टील की 4025 करोड़ रुपए की अचल संपत्तियां जब्त कीं

प्रवर्तन निदेशालय ने ओडिशा में भूषण स्टील की 4025 करोड़ रुपए की अचल संपत्तियां जब्त कीं





नई दिल्ली. कर्ज जुटाने के लिए बैंकों के साथ धोखाधड़ी के मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड (बीपीएसएल) के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की। जांच एजेंसी ने शनिवार को बताया कि मनी लॉन्ड्रिंग कानून के तहत कंपनी की 4025 करोड़ रुपए की अचल संपत्ति जब्त की गई है। इसमें ओडिशा स्थितजमीन, बिल्डिंग, प्लांट और मशीनेंशामिल हैं।

इससे पहले सीबीआई ने बीपीएसएलके पूर्व सीएमडी संजय सिंगल के खिलाफ धोखाधड़ी, आपराधिक साजिश औरभ्रष्टाचार निरोधी कानून के तहत मामला दर्ज किया था। इसके बाद ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग की जांच शुरू की थी।

कंपनी ने बैंकों से कर्ज लेकर पूंजी निवेशकिया

ईडी के मुताबिक, जांच में सामने आया है कि बीपीएसएल ने बैंकों और वित्तीय संस्थानों से कर्ज जुटाने के लिए विभिन्न तरीके अपनाए। कंपनी के लिए बैंकों से जुटाए गए लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स (एलटीसीजी) की कुल रकम में संजय सिंगल और उनके परिवार के सदस्यों का पूंजी के रूप में 695.14 करोड़ का निवेश दिखाया गया। इसके आधार पर उन्होंनेसमय-समय पर आयकर में छूट भी ली थी।

आरटीजीएस भुगतान के बदले नकदी जुटाई

जांच में यह भी खुलासा हुआ है कि बीपीएसएलने कई कंपनियों को फर्जी खरीदारी के नाम पर आरटीजीएस से भुगतान किया। इन कंपनियों से बीपीएसएल ने कोई माल नहीं लिया और ट्रांसफर की गई रकम वापस ले ली। इस तरह साइनोक्राइज्ड ट्रेडिंग से सस्ते स्टॉक्स की कीमत बढ़ाकर कृत्रिम कैपिटल गेन्सजुटाने के लिए फंड का इस्तेमालकिया गया।

DBApp









प्रतिकात्मक फोटो।






(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from Bhaskar.)