भारी जुर्मानों के बाद अब ट्रैफिक संकेतों का मतलब समझाने सड़कों पर उतरी दिल्ली ट्रैफिक पुलिस

भारी जुर्मानों के बाद अब ट्रैफिक संकेतों का मतलब समझाने सड़कों पर उतरी दिल्ली ट्रैफिक पुलिस

नई दिल्ली: नए ट्रैफिक नियमों (Traffic Rules) के भारी भरकम जुर्मानों (penalty) से त्राहिमाम कर रहे लोगों को राहत देने के लिए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस (Delhi Traffic Police) ने सड़क पर ही साइन बोर्ड (sign board) की पाठशाला लगा डाली है. लेकिन, इन साइन बोर्ड को समझने में लगभग पूरी दिल्ली (Delhi) का सर चकरा गया. वैसे ट्रैफिक की जानकारी देते कुछ संकेत तो ऐसे भी हैं कि हम आपको चुनौती के साथ कह सकते हैं कि आप भी इनके मतलब जानने के लिए गूगल (Google) खोल लेंगे.

आपको बता दें कि सड़क संकेतों (road signs) की सही जानकारी न होने से न सिर्फ बड़े चालान (challan) बल्कि बड़े सड़क हादसे भी हो सकते हैं. लिहाजा दिल्ली ट्रैफिक पुलिस (Traffic Police) लोगों को समझाने के लिए साइन बोर्ड के साथ सड़कों पर उतरी. लेकिन पहले टेस्ट फिर जानकारी की शर्त के साथ. वैसे ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License) बनवाने के टेस्ट में इस तरह के साइन बोर्ड का भी टेस्ट शामिल होता है. आउट ऑफ सिलेबस से दिखने वाले ये ट्रैफिक साइन बोर्ड आपकी और सड़क पर चलने वालों की जान बचा सकते हैं. तो इससे पहले कि कोई ट्रैफिक पुलिस वाला आपको क्वेश्चन पेपर के साथ पकड़ ले, आप इन्हें समझ लें.

 
सड़क संकेत तीन तरह के होते हैं...
आदेशात्मक- ये वो संकेत होते हैं जो आपको सीधे तौर पर आदेश देते हैं. इनका पालन न करने पर पुलिस आपका चालान कर सकती है. ये संकेत आपको ज्यादातर एक गोल आकार में दिखेंगे. जैसे:
no enrty (प्रवेश निषेध)
keep left (बाएं रखना आवश्यक)
no stopping (रुकना निषेध)
restriction ends(प्रतिबंध समाप्त)
one way (एक तरफ रास्ता)

निर्देशात्मक- ये संकेत आपको आगे के रास्ते के लिए अलर्ट करते हैं. ये संकेत आपको ज्यादातर triangle shape में दिखेंगे जैसे आगे चौराहा है तो आपको cross road (चौराहा) का साइन बोर्ड दिखेगा, या  तीखा मोड़ है तो (hair pin bend) का साइन बोर्ड दिखेगा. इसी तरह से इन्टरसेक्शन, चौड़ी सड़क, तंग पुल, स्पीड ब्रेकर इत्यादि.

सूचनात्मक- ये वो संकेत हैं जो यात्रियों को रास्ते में मिलने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी देते हैं. जैसे इतनी दूरी पर petrol pump है, अस्पताल है, सड़क बन्द है. आगे footover bridge है.

देखें लाइव टीवी

वैसे तो हमारे देश में लाइसेंस बनाने की प्रक्रिया में ही ये सुनिक्षित किया जाता है कि आपको सड़क संकेतों की जानकारी हो. लाइसेंस के लिए जब आप अप्लाई करते हैं तो सबसे पहले आपका लर्निंग लाइसेंस बनता है. जिसको बनवाने के लिए आपको एक टेस्ट पास करना होता है. इस टेस्ट में कितने और क्या सवाल आएंगे ये हर राज्य में अलग हैं. मिसाल के तौर पर उत्तर प्रदेश में लाइसेंस बनवाने के लिए आपका एक ऑनलाइन टेस्ट होता है. जिसमें 15 सवाल पूछे जाते हैं. टेस्ट को पास करने के लिए आपको 15 में से 8 सवालों के सही जवाब देने होते हैं. और इन सवालों में सड़क संकेत के सवाल भी पूछे जाते हैं.

यहां आपको यह भी बता दें कि आदेशात्मक सड़क संकेतों को छोड़ कर बाकी किसी भी संकेत में आपका चालान नहीं होगा. लेकिन, अगर आपके पास लाइसेंस है और आप सड़क पर गाड़ी लेकर उतर रहे हैं तो एक जागरुक नागरिक होने के नाते आपकी ये जिम्मेदारी बनती है कि आप सड़क नियमों का पालन करें. जिसके लिए इन संकेतों की जानकारी बेहद जरूरी है.


(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from Zee News.)