ऋषभ पंत के मुरीद हुए लांस क्‍लूजनर, साथ ही बताई उनकी सबसे बड़ी कमी

ऋषभ पंत के मुरीद हुए लांस क्‍लूजनर, साथ ही बताई उनकी सबसे बड़ी कमी
दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के पूर्व ऑलराउंडर लांस क्लूजनर (Lance Klusener) को लगता है कि ऋषभ पंत (Rishabh Pant) जैसी बेहतरीन प्रतिभा के धनी खिलाड़ी को दूसरों की गलतियों से सीख लेनी चाहिए. ऐसा करने पर वे भारत (Inida) के लिए बेहतर प्रदर्शन कर पाएंगे. क्लूजनर को लगता है कि पंत की काबिलियत देखते हुए वनडे में 22.90 और टी20 में 21.57 का औसत बेहतरीन नहीं दिखता लेकिन यह दिखाता है कि वह समय से आगे चल रहा है.

'पंत को खुद को थोड़ा समय देना चाहिए'
दक्षिण अफ्रीका टीम के बल्लेबाजी कोच के तौर पर 48 साल के क्लूजनर इस समय भारत में हैं. उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए यह बताना काफी मुश्किल होगा लेकिन उसके जैसा बेहतरीन खिलाड़ी खुद से आगे बढ़ने की कोशिश करता है.’ क्लूजनर जब दिल्ली की टीम के सलाहकार थे, तब उन्हें पंत के खेल को देखने का मौका मिला. उन्होंने कहा, ‘उसे खुद को थोड़ा समय देना चाहिए और थोड़ा सा समय उसे अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका प्रदान करेगा.’

lance klusener, rishabh pant, lance klusener india, south africa, india south africa series, लांस क्‍लूजनर, ऋषभ पंत, इंडिया दक्षिण अफ्रीका सीरीज
दक्षिण अफ्रीका के दिग्‍गज क्रिकेटर लांस क्‍लूजनर.
'दूसरों की गलती से सीखना होता है फायदेमंद'
लोग सोचते हैं कि खिलाड़ी अधिकतर चीजें अपनी गलतियों से सीखते हैं लेकिन क्लूजनर का मानना है कि अगर खिलाड़ी अन्य की गलतियों से सीख लेता है तो यह काफी फायदेमंद साबित होगा. उन्होंने कहा, ‘अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में क्या चीज आपको आगे ले जाती है, वह है खुद गलतियां किए बिना दूसरों की गलतियों से सीख लो.’

'दूसरों की गलतियों से जल्‍दी सीखोगे'
क्लूजनर ने कहा, ‘मैं आपको बताता हूं कि ऐसा क्यों है. आप अपनी गलतियों से भी सीख सकते हो लेकिन गलती को महसूस करने, उसे सही करके बेहतर खिलाड़ी बनने में काफी समय लगता है. अगर आप अन्य खिलाड़ी को गलती करते हुए देखते हो तो आप तेजी से सीखोगे और तेजी से सुधार करोगे.'

रोहित शर्मा और एबी डीविलियर्स ने उड़ा दी थी मेरी रातों की नींद : गौतम गंभीर

केएल राहुल-अनुष्‍का शर्मा पर घटिया बात लिखने पर भड़का ये क्रिकेटर, लगाई फटकार

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)