महाराष्ट्र के किसानों की आत्महत्या शरद पवार का 'पाप' है : फड़णवीस

महाराष्ट्र के किसानों की आत्महत्या शरद पवार का 'पाप' है : फड़णवीस
मुंबई. महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव (Maharashtra assembly elections) के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी (Bjp) और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है.  विदर्भ (Vidarbh) क्षेत्र के अकोला (Akola) जिले में अकोट तहसील में एक रैली में राज्य के सीएम देवेंद्र फड़णवीस  (Devendra Fadnavis)ने किसानो के आत्महत्या को शरद पवार (Sharad Pawar)का 'पाप' करार दिया.

फड़णवीस ने आरोप लगाया कि किसान आत्महत्याएं महाराष्ट्र में शरद पवार और उनकी सरकार का पाप है. यह आपके शासन के दौरान शुरू हुआ और बढ़ा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि
पवार पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, 'पवार विदर्भ में अपनी रैलियों में किसान आत्महत्याओं के बारे में बात कर रहे हैं. मैं उनसे पूछना चाहता हूं, जो महाराष्ट्र में सत्ता में थे, जब किसानों ने आत्महत्या करना शुरू किया था.'फड़णवीस ने पवार पर विदर्भ में पानी की आपूर्ति रोकने का आरोप लगाया और कहा कि बाद की 'भ्रष्ट नीतियों' ने क्षेत्र के लोगों को लूट लिया.

फड़णवीस ने कहा कि - 
फड़णवीस ने कहा कि 'आपने विदर्भ क्षेत्र में पानी की आपूर्ति बंद कर दी. आप केंद्र में एक मंत्री थे और आप पिछले 15 वर्षों से (1999-2014 के बीच) महाराष्ट्र में सत्ता में थे. आपकी भ्रष्ट प्रथाओं ने विदर्भ के किसानों को परेशान किया.'
कहा कि 'आपने इस क्षेत्र में सिंचाई को कम कर दिया, इसलिए किसानों को आत्महत्या करने को मजबूर हैं.' फड़णवीस ने कहा कि राज्य में जहां सिंचाई के लिए आसानी से पानी उपलब्ध है, वहां किसान आत्महत्या नहीं करते हैं, जबकि जिन क्षेत्रों में सिंचाई ठीक से नहीं होती है, वहां ऐसी घटनाओं की संख्या अधिक होती है.'

पवार ने की आलोचना
गौरतलब है कि शुक्रवार को पवार ने महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव अभियान में बार-बार उनके नाम का इस्तेमाल करने पर शुक्रवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री समेत भाजपा के शीर्ष नेताओं की आलोचना की और कहा कि उन्हें अर्थव्यवस्था और किसानों से जुड़े मुद्दों पर बोलना चाहिये.

राकांपा प्रमुख ने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, शाह और मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस के अभियान का सबसे बड़ा मुद्दा 'शरद पवार' है.

पवार ने एक चुनावी रैली में शाह का नाम लिये बिना एक बार फिर 'जेल' का जिक्र करते हुए कहा कि जिन्हें 'अंदर' होना चाहिये था वे अब देश का प्रशासन चला रहे हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें इससे कोई शिकायत नहीं है क्योंकि लोकतंत्र में हर किसी के पास उसके अधिकार होते हैं.

पवार ने कहा था-
पवार ने कहा कि राकांपा जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को हटाने का स्वागत करती है. उन्होंने केन्द्र से अनुच्छेद 371 को भी खत्म करने के लिये कहा, जो नगालैंड और मेघालय समेत पूर्वोत्तर राज्यों में जमीन खरीदने से रोकता है.

पवार ने मोदी, शाह और फड़णवीस पर निशाना साधते हुए कहा था, 'वे जहां भी जाते हैं, सिर्फ शरद पवार, शरद पवार, शरद पवार के बारे में बोलते हैं. मैं उन्हें कहना चाहूंगा कि आप हर समय मेरा नाम जप रहे हैं . ऐसा न हो कि आप सोते समय भी मेरा नाम जपते रहें, इससे आपके घर के लोगों के मन में कुछ संदेह पैदा हो सकता है.'

यह भी पढ़ें:  शाही परिवार के सदस्यों, अभिनेताओं और मशहूर हस्तियों ने चुनाव को बनाया दिलचस्प

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)