चीनी राष्ट्रपति Xi Jinping पहुंचे चेन्नई, एयरपोर्ट पर हुआ भव्य स्वागत, PM Modi के साथ करेंगे बातचीत

चीनी राष्ट्रपति Xi Jinping पहुंचे चेन्नई, एयरपोर्ट पर हुआ भव्य स्वागत, PM Modi के साथ करेंगे बातचीत

खास बातें

  1. दो दिवसीय दौरे पर भारत आए हैं चिनफिंग
  2. पीएम मोदी के साथ करेंगे अनौपचारिक बातचीत
  3. एयरपोर्ट पर चिनफिंग का हुआ भव्य स्वागत
नई दिल्ली :

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग (Xi Jinping) शुक्रवार को दो दिवसीय दौरे पर चेन्नई पहुंचे. वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के साथ मल्लापुरम में होने वाले दूसरे अनौपचारिक शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे. शी और अन्य लोगों को लेकर एयर चाइना का विमान दोपहर दो बजे उतरा. हवाई अड्डे पर शी चिनफिंग के स्वागत की खास तैयारिंया की गई थीं. रेड कार्पेट के साथ शी का स्वागत तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित, मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी, उप-मुख्यमंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम ने किया.  

3b26khmg

चीनी नेता के स्वागत के लिए हवाई अड्डे पर बड़ी संख्या में कलाकार रंग-बिरंगे झंडे लेकर कतारों में खड़े थे. वे ढोल बजा रहे थे और परंपरागत संगीत की थाप पर थिरक रहे थे. स्थानीय कलाकारों ने लोक नृत्य की प्रस्तुति भी दी. आपको बता दें कि एक दिन पहले ही चेन्नई के एक स्कूल के लगभग 2000 छात्रों ने चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग (Xi Jinping)  के स्वागत के लिए अनूठे तरीके से रिहर्सल की थी. छात्रों ने शी चिनफिंग का मुखौटा पहन रखा था और हाथ में भारत-चीन के झंडे ले रखे थे.

छात्रों ने एक फॉर्मेशन भी बनाई, जो चीनी राष्ट्रपति के नाम को मंडारिन में प्रदर्शित कर रही थी. बता दें कि चिनफिंग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखर वार्ता के लिए करीब 24 घंटे की भारत यात्रा पर आये हैं. तमिलनाडु से करीब 50 किलोमीटर दूर पुरातनकालीन तटीय शहर मामल्लापुरम में यह शिखर वार्ता होगी जो चीन के फुजियान प्रांत के साथ मजबूत व्यापार और सांस्कृतिक संबंधों के कारण अहम है.


टिप्पणियां

3rkigaas

चिनफिंग के साथ विदेश मंत्री वांग यी और चीन के स्टेट काउंसिलर यांग जियेची भी आए हैं. दोनों ही भारत में अपने समकक्षों विदेश मंत्री एस जयशंकर तथा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ अलग-अलग बातचीत कर सकते हैं.  दोनों पक्षों के अधिकारियों ने कहा कि मोदी-शी शिखर वार्ता में मुख्य रूप से उभरती अर्थव्यवस्थाओं के बीच द्विपक्षीय कारोबार तथा विकास सहयोग को कश्मीर मुद्दे पर मतभेदों तथा सीमा संबंधी जटिल विषय से अलग ले जाने पर ध्यान होगा. संबंधों में असहज स्थिति के बावजूद चिनफिंग के भव्य स्वागत के लिए प्रदेश और केंद्र सरकार की एजेंसियों ने कोई कसर नहीं छोड़ी है.  चिनफिंग जिन ऐतिहासिक स्थलों का दौरा करेंगे, उन्हें भी विशेष रूप से सजाया-संवारा गया है. 


(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from Ndtv India.)