जानें कितना खास है ITC Grand Chola होटल, जिसमें ठहरे हैं शी जिनपिंग

जानें कितना खास है ITC Grand Chola होटल, जिसमें ठहरे हैं शी जिनपिंग
अपने भारत प्रवास के दौरान चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) चेन्नई (Chennai) के मशहूर आईटीसी ग्रैंड चोला होटल (ITC Grand Chola Hotel) में ठहरे हैं. चेन्नई एयरपोर्ट से उतरने के बाद शी जिनपिंग सीधे इसी होटल में आये.  यहां के बाद उनका आगे का कार्यक्रम शुरू होगा.  चोला होटल से निकलकर वो महाबलीपुरम जाएंगे. यहां शी जिनपिंग और पीएम मोदी के बीच अनौपचारिक मुलाकात होगी.

आईटीसी ग्रैंड चोला चेन्नई का सबसे मशहूर होटल है. यहां चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के लिए सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम किए गए हैं. होटल के बाहर तीन लेयर की सिक्योरिटी है. आसपास के इलाकों पर भी सुरक्षाबल पैनी निगाह बनाए हुए हैं. हालांकि आज सुबह ही चोला होटल के बाहर कुछ तिब्बती प्रोफेसरों ने विरोध प्रदर्शन किया था. होटल चोला के बाहर 5 तिब्बती प्रोफेसर प्रदर्शन कर रहे थे, जिन्हें पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. इसके बाद होटल की सुरक्षा व्यवस्था और सख्त कर दी गई.

chinese president xi jinping stay in itc grand chola during his india visit know all about hotel
आईटीसी ग्रैंड चोला होटल


5 सितारा चोला होटल तीसरा सबसे बड़ा होटलआईटीसी ग्रैंड चोला होटल चेन्नई का 5 स्टार होटल है. सभी अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस ये चेन्नई का सबसे बड़ा होटल है. पूरे भारत में ये तीसरा सबसे बड़ा होटल है. मुंबई के कंवेशन सेंटर होटल और ग्रैंड हयात होटल पहले और दूसरे नंबर पर आते हैं.

चेन्नई का ये विशाल होटल करीब 16 लाख स्कॉयर फीट में फैला है. इसे बनाने में करीब 12 हजार मिलियन यानी करीब 1200 करोड़ रुपए का खर्च आया है. इस होटल में देश के बड़े कंवेशन सेंटर हैं, जो एक लाख स्कॉयर फीट में बने हैं. 30 हजार स्कॉयर फीट में बना बॉल रूम हैं, जिसमें एक भी पिलर नहीं है. ये स्टारवुड होटल ग्रुप के लग्जरी कलेक्शन में नौवें नंबर पर आता है.

chinese president xi jinping stay in itc grand chola during his india visit know all about hotel
आईटीसी ग्रैंड चोला होटल
होटल का नाम चोला क्यों रखा गया?

चोला होटल को सिंगापुर की एक आर्किटेक्ट कंपनी एसआरएसएस ने बनाया है. होटल को बनाने में तमिलियन आर्किटेक्ट का इस्तेमाल किया गया है. ऐसे आर्किटेक्ट चोला वंश के राजाओं के दौर में देखने में आते थे. इसी वजह से होटल का नाम गैंड चोला होटल दिया गया.

आईटीसी ने चेन्नई में पहले चोला शेरटन के नाम से इस होटल की शुरुआत की थी. बाद में इस होटल को रिब्रांड किया गया. आईटीसी होटल ग्रुप ने कैंपा कोला कैंपस में 8 एकड़ की जमीन खरीदी. इसमें करीब 800 मिलियन यानी 80 करोड़ रुपए खर्च किए गए. शुरुआत में कहा गया कि होटल बनाने में करीब 8 से 10 हजार मिलियन का खर्च आएगा.

2012 में जयललिता ने किया था होटल का उद्घाटन

15 सितंबर 2012 को इस होटल का उद्घाटन तमिलनाडु की तत्कालीन मुख्यमंत्री जयललिता ने किया था. पहले इस होटल का नाम शेरटन चोला था. बाद में इसका नाम बदलकर आईटीसी ग्रैंड चोला कर दिया गया.

chinese president xi jinping stay in itc grand chola during his india visit know all about hotel
आईटीसी ग्रैंड चोला होटल


इस होटल में 600 कमरे हैं. यहां की कॉन्फ्रेंस और एक्जीबिशन फैसिलिटी मशहूर है. यहां के 26,540 स्कॉयर फीट में फैला मुख्य बॉलरूम चर्चित है. इसे राजेंद्र हॉल कहा जाता है. इसमें 5000 मेहमानों के बैठने की व्यवस्था है. पिलर लेस एरिया मिलाकर बॉलरूम का कुल एरिया करीब 55 हजार स्कॉयर फीट होगा.

होटल में 48 सीटों वाला एक थियेटर भी है. पूरा होटल करीब 8 एकड़ में फैला है. इसके 10 फीसदी हिस्से को चेन्नई मेट्रोपॉलिटन अथॉरिटी को दिया गया है. वो इस इलाके ओपन स्पेस के तौर पर संरक्षित रखे हुए है.

पेशावरी खाने के लिए मशहूर है होटल

होटल के 600 कमरों में 522 रूम और 78 सर्विस अपार्टमेंट हैं. इसमें 326 एक्जीक्यूटिव क्लब रूम, 31 ईवा रूम, 132 टावर रूम, 48 आईटीसी वन रूम और 14 डिलक्स सुईट हैं. ईवा विंग को खासतौर पर महिला मेहमानों के लिए तैयार किया गया है.

chinese president xi jinping stay in itc grand chola during his india visit know all about hotel
आईटीसी ग्रैंड चोला होटल


होटल में फूड और बेवरेज के कुल 10 लोकेशन हैं. यहां खाने-पीने के बेहतरीन इंतजाम हैं. खासकर ये होटल अपने पेशावरी खाने के लिए जाना जाता है.

होटल में कुल 3 स्विमिंग पूल हैं. इनमें एक छत पर बना स्विमिंग पूल भी है. होटल में चोल वंश के शासन को दर्शाती कई कलाकृतियां हैं. होटल में रेस्टोरेंट और हेल्थ स्पा के साथ 30 हजार स्कॉयर फीट में फैला समारोह स्थल भी है, जहां एकसाथ 600 गेस्ट आ सकते हैं. 2,625 स्कॉयर फीट में फैला एक्जीबिशन सेंटर भी है.

इस होटल की एक और खासियत यहां की ग्रीनरी है. होटल की हरियाली को देखकर ही लीडरशिप इन एनर्जी एंड एनवॉयरमेंटल डिजाइन (LEED) ने इसे प्लैटिनम की रेटिंग दी है. LEED दुनियाभर में बिल्डिंगों को उसकी हरियाली देखकर ग्रीन सर्टिफिकेशन देती है.

ये भी पढ़ें: शी जिनपिंग-मोदी मुलाकात: मामल्लपुरम या महाबलीपुरम, कौन सा नाम सही है?
महाबलीपुरम से चीन का ये है कनेक्शन, इसलिए PM मोदी ने जिनपिंग से मिलने के लिए चुना ये शहर
जेपी चाहते तो वो देश के दूसरे प्रधानमंत्री बनते
कांग्रेस-एनसीपी ही नहीं, क्या ये पार्टियां भी थक चुकी हैं? क्यों नहीं दिखता इनमें जोश

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)