किसानों को मिला दिवाली तोहफा! इतने रुपये तक सस्ती हुई खाद, जानिए नए रेट्स

किसानों को मिला दिवाली तोहफा! इतने रुपये तक सस्ती हुई खाद, जानिए नए रेट्स
नई दिल्ली. केन्द्र सरकार (Central Government) के हस्तक्षेप के बाद खाद बनाने वाली देश की सबसे बड़ी सहकारी सोसाइटी IFFCO ने बड़ी घोषणा की है. किसानों को DAP सहित सभी तरह की खाद (Fertilizer) पर बड़ी छूट दी जा रही है. खाद की नई कीमतें 11 अक्टूबर से लागू हो गई है. IFFCO के प्रबंध निदेशक यू एस अवस्थी (U S Awasthi) ने ये घोषणा की है. मोदी सरकार ने सब्सिडी बढ़ा दी है. किसानों को मिलने वाली इस सब्सिडी से केन्द्र सरकार पर करीब 22 हजार करोड़ रुपये से अधिक का भार पड़ेगा.

अब ये होंगी DAP-NPK खाद की नई कीमतें

>> प्रबंध निदेशक यू एस अवस्थी ने घोषणा करते हुए कहा है कि अब डीएपी पर 50 रुपये प्रति किलो (बोरी) की छूट दी है. नई कीमत 1250 रुपये होगी. इससे पहले ये बोरी 1300 रुपये की कीमत पर मिलती थी.

>> इसके अलावा एनपीके-1 कॉम्पलेक्स की कीमत अब 1250 रुपये से घटाकर 1200 रुपये कर दी गई है. वहीं दूसरी ओर एनपीके-2 की कीमत 1260 रुपये से घटाकर 1210 रुपये करने की घोषणा की गई है.>> अगर एनपी कॉम्पलेक्स की बात करें तो इसकी नई कीमत 950 रुपये है. लेकिन इस सब के बीच नीम कोटेड यूरिया की कीमतों में किसी तरह का कोई बदलाव नहीं किया गया है.

>> यह पुरानी रेट पर ही 266.50 रुपये प्रति 45 किलो बोरी के हिसाब से मिलता रहेगा.

ये भी पढ़ें: सिर्फ एक बार लगाएं दो लाख रुपये, हर महीने इस बिजनेस में होगी 50 हजार रुपये तक की कमाई!


डीएप खाद, इफको



जानें क्या है DAP और NPK खाद

क्या होता है डीएपी- डीएपी का पूरा नाम डाइअमोनियम फॉस्फेट (Di ammonium phosphate) होता है. इस उर्वरक में आधे से ज्यादा मात्रा में फास्फोरस होता है. इसका कुछ हिस्सा पानी में घुलनशील होता है जबकि कुछ हिस्सा मिट्टी में मिल जाता है.

>> डीएपी जमीन की उर्वरा शक्ति को बढ़ाने के साथ-साथ उसे भुरभुरा भी बनाता है जो कि जड़ों को फैलने में मदद करता है. जब जड़ मजबूत होता है तो फसलों में ज्यादा फल लगता है.

क्या है एनपीके- एनपीके उर्वरक में नाइट्रोजन फॉस्फोरस और पोटैशिम मिला होता है. इस उर्वरक का काम होता है पौधे (डंठल) और फलों को मजबूत करना. इस उर्रवरक के प्रयोग से फलों के गिरने की समस्या कम हो जाती है.

>> दोनों उर्वरक दानेदार होते हैं इस कारण इसका प्रयोग फसलों की बुआई के समय ही किया जाता है जिससे कि पौधों की तना मजबूत हो और जड़ें जमीन में ज्यादा से ज्यादा फैल सके.

ये भी पढ़ें: कभी ट्यूशन पढ़ाकर शुरू किया बिजनेस, इस आइडिया से बने करोड़पति, आज देश के टॉप अमीरों में हुए शामिल

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)