भाजपा के पोस्टर में पीएम मोदी के साथ दिखे महाराज

भाजपा के पोस्टर में पीएम मोदी के साथ दिखे महाराज
भोपाल. मध्य प्रदेश कांग्रेस की अंदरूनी राजनीति में चल रही उथल-पुथल, कुछ दिनों के लिए भले ही शांत प्रतीत हो रही हो, लेकिन हकीकत में ऐसा है नहीं. पूर्व सांसद और पार्टी के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) की गतिविधियां, 'सियासी तालाब में हलचल' पैदा करती ही रहती हैं. ताजा मामला भिंड (Bhind) का है. सिंधिया बीते दिनों भिंड इलाके के अटेर में बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात करने पहुंचे थे. यहां पर उन्होंने पहले तो बाढ़ पीड़ितों की तत्काल सहायता करने को लेकर कमलनाथ (CM Kamalnath) सरकार को नसीहत दी, जिसने विपक्षी भाजपा को हमलावर होने का मौका दिया. रही-सही कसर भिंड में सिंधिया के स्वागत में भाजपा की तरफ से लगाए पोस्टर ने पूरी कर दी, जिसमें ग्वालियर के 'महाराज', पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के साथ नजर आ रहे हैं.

पोस्टर में महाराज
ज्योतिरादित्य सिंधिया का भिंड दौरा, यूं तो प्रदेश में उनकी सक्रियता की झलक-मात्र ही होती, लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने उनके स्वागत में जो पोस्टर लगाए, उसने सियासी हवा का रुख बदलकर रख दिया है. भाजपा की तरफ से लगाए गए पोस्टर में ज्योतिरादित्य सिंधिया के स्वागत के साथ-साथ कुछ और सियासी बातें भी कही गई हैं. पोस्टर में जम्मू-कश्मीर से संविधान की धारा 370 हटाने को लेकर पीएम मोदी और अमित शाह को धन्यवाद देने का भी जिक्र है. इसमें देश का नक्शा भी दिखाया गया है, जिसमें भारतमाता नजर आ रही हैं. अब यह पोस्टर एमपी की सियासत को गर्माने के लिए काफी है.

भिंड में क्या कहा सिंधिया ने
कांग्रेस के पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया गुरुवार को बाढ़ पीड़ितों से मिलने भिंड के अटेर इलाके में गए थे. उन्होंने यहां पार्टी कार्यकर्ताओं से बातचीत की और बाढ़ पीड़ितों को हरसंभव मदद का आश्वासन दिया. बाढ़ प्रभावितों को संबोधित करने के दौरान सिंधिया ने कमलनाथ सरकार को नसीहत दी. ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, 'मैंने गांव की जनता से कहा है कि संकट की इस घड़ी में मैं उनके साथ खड़ा हूं, लेकिन सरकार को भी जनता के साथ खड़ा रहना ही होगा. यहां पर कई गांवों में बिल्कुल इस प्रकार की स्थिति बन गई थी जैसे समुद्र में छोटा सा टापू हो. यहां के एक दर्जन गांव में तो सर्वे कराने की भी जरूरत नहीं है. इन गांव में शत-प्रतिशत नुकसान मानकर मुआवजा देना चाहिए. सरकार की जिम्मेदारी है कि संकट के समय में आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहे. इस सरकार की पहली जिम्मेदारी प्रदेश के अन्नदाताओं के प्रति है.'



शिवराज ने दी प्रतिक्रिया
ज्योतिरादित्य सिंधिया के भिंड में दिए गए इसी बयान को सियासी हलके में प्रदेश सरकार पर प्रहार के रूप में देखा जा रहा है. इस बयान के अलग-अलग मायने निकाले जाने लगे हैं. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान ने भी इसको लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है. शिवराज ने सिंधिया के बयान के साथ ट्वीट करते हुए कहा है, 'न शिवराज और न जनता, अब तो आप के ही लोग आपको आईना दिखा रहे हैं और बता रहे हैं कि कर्ज़माफ़ी नहीं हुई कमलनाथ जी! क्या अब भी आपकी सरकार नहीं जागेगी? किसानों की आंखों के आंसू सूख गए, लेकिन उनके बैंक खातों में पैसे नहीं आए! लाज-शर्म बची हो तो कर्ज़माफ़ी पर जल्द से जल्द फैसला लीजिए!' सिंधिया के बयान, फिर पोस्टर और भाजपा की प्रतिक्रिया के बाद जाहिर है प्रदेश की राजनीति में हलचल मच गई है. अब देखना है कि इन बयानों के बाद सरकार की तरफ से क्या प्रतिक्रिया आती है.

ये भी पढ़ें -

बाढ़ पीड़ितों से मिलने भिंड पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया, कमलनाथ सरकार को दी नसीहत

'भाई' के बाद 'ताई' की बारी : महाराष्ट्र ब्राह्मण सहकारी बैंक घोटाले की खुलेंगी फाइल

हज यात्रा के नाम पर ठग लिए गए दर्जनों लोग, दलाल लाखों रुपए लेकर फरार

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)