जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर ट्विटर पर पकड़ा गया पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का बड़ा झूठ

जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर ट्विटर पर पकड़ा गया पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का बड़ा झूठ
नई दिल्ली:

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान की बौखलाहट इस तरह से बढ़ गई है कि वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान अब झूठ बोलने से भी बाज नहीं आ रहे हैं. उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल से संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग में कथित समर्थन के लिए 58 देशों को धन्यवाद दे डाला जबकि सच्चाई यह है कि इसमें सिर्फ 47 ही देश ही सदस्य हैं. इमरान खान ने अपने ट्वीट में लिखा, ' 'मैं उन 58 देशों की तारीफ करता हूं जिन्होंने 10 सितंबर को मानवाधिकार परिषद में पाकिस्तान का साथ देकर विश्वसमुदाय की मांग को मजबूती दी कि भारत कश्मीर में बल प्रयोग रोके, प्रतिबंध हटाए, कश्मीरियों के अधिकारों की रक्षा हो और संयुक्त राष्ट्र प्रस्ताव के मुताबिक कश्मीर मुद्दे का समाधान किया जाए.' उनके इस ट्वीट पर कई लोगों ने सोशल मीडिया पर जमकर मजाक उड़ाया. इतना ही नहीं भारतीय विदेश विभाग ने भी इस पर पूछे गए सवाल पर चुटकी ली. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, यह पाकिस्तान, ऐसा देश जो “आतंकवाद का केंद्र'' है, का “दुस्साहस'' है कि वह जिनेवा में यूएनएचआरसी सत्र में मानवाधिकारों पर वैश्विक समुदाय की तरफ से बोलने का ढोंग कर रहा है. उन्होंने कहा, “यूएनएचआरसी में 47 सदस्य देश हैं. वे (पाकिस्तान) 60 देशों के समर्थन का दावा कर रहे हैं.


सोशल मीडिया पर रिएक्शन

इमरान खान का उड़ाया मजाक

दूसकी ओर  इमरान खान के ऐसे झूठे दावों से उलट उन्ही के सरकार में गृह मंत्री ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) एजाज अहमद शाह ने कबूल किया है कि कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय बिरादरी से समर्थन पाने में नाकाम रहा है. उन्होंने कहा कि इस्लामाबाद के प्रयासों के बावजूद दुनिया भारत की बात पर ही विश्वास करती है। उनके इस बयान से पाकिस्तान के लिए शर्मिंदगी वाली स्थिति बन गई है. 

इमरान खान की पार्टी के पूर्व MLA बलदेव कुमार ने भारत सरकार से शरण देने का आग्रह किया​

अन्य खबरें :

अमेरिका की मदद के लिए हमने ही प्रशिक्षित किया था मुजाहिदीन को : पाक PM इमरान खान

टिप्पणियां

पाकिस्तान के पूर्व MLA ने मांगी भारत में शरण तो इमरान खान की पार्टी बोली- जहां चाहें, वहां रहने के लिए आजाद

भारत-पाक करतारपुर गुरुद्वारा तक वीजा मुक्त यात्रा पर सहमत, आगंतुक शुल्क पर मतभेद


(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from Ndtv India.)