एनजीओ के लगाए पौधों को दो बकरियों ने खाया, दोनों को पकड़कर भेजा हवालात

एनजीओ के लगाए पौधों को दो बकरियों ने खाया, दोनों को पकड़कर भेजा हवालात
हैदराबाद: क्‍या किसी जानवर को भी कथित जुर्म के लिए सजा दी जा सकती है. तेलंगाना (Telangana) में पौधों को खाने के लिए दो बकरियों को थाने में पुलिस के हवाले कर दिया गया. सुनने में भले विचित्र लगे, लेकिन करीमनगर (Karimnagar) के हुजूराबाद में ऐसा ही मामला सुनने में आया. तेलंगाना में पौधे चरने का अपराध करने के जुर्म में बकरियों को थाने की हवा खानी पड़ी. यह घटना मंगलवार की है.

सेव द ट्री (Savi the Tree) एनजीओ ने जिले के स्कूलों और कॉलेजों में सरकारी सहायता से लगभग 980 पौधे लगाए थे. एनजीओ ने दावा किया है कि बकरियों ने लगभग 250 पौधों को खाया लिया.   एनजीओ द्वारा लगाए गए पौधों को खाने पर एनजीओ के कार्यकर्ताओं ने दो बकरों को पकड़ कर थाना पहुंचाया और उन्हें पुलिस के हवाले कर दिया. थाने में इन दो बकरों को खंभे से बांधकर तब तक रखा गया जब तक उसके मालिक ने जुर्माना नहीं भरा. इसके बाद इन्‍हें रिहा कर दिया गया.

पुलिस ने ये कार्रवाई एक एनजीओ की शिकायत पर की. इस एनजीओ ने एक सरकारी अस्‍पताल में 150 पौधों को लगाया था. इसे इन बकरियों  ने खा लिया. इसके बाद ये कार्रवाई की गई. हालांकि पुलिस ने सफाई देते हुए कहा कि उन्होंने बकरियों को गिरफ्तार नहीं किया था, क्योंकि भारतीय दंड संहिता में पशुओं को गिरफ्तार करने या सजा देने का कोई प्रावधान नहीं है.

पुलिस इंस्पेक्टर वासमशेट्टी माधवी ने बताया कि बकरियों के मालिक ने बुधवार को नगर निगम प्राधिकरण को 1,000 रुपये का जुर्माना चुकाया जिसके बाद दोनों बकरे को रिहा किया गया.  अधिकारी ने बताया, "बकरियों के मालिक द्वारा जुर्माना भरने पर हमने बकरे को उनके हवाले कर दिया और उन्हें सार्वजनिक स्थानों पर लगे पौधे बकरियों से नहीं चराने की चेतावनी भी दी."

(Disclaimer: This article is not written By 24Trends, Above article copied from News 18.)